Google Doodle: कौन हैं Angelo Moriondo जिन्हें गूगल ने Doogle बनाकर किया याद?

कौन हैं Angelo Moriondo जिन्हें गूगल ने Doodle बनाकर किया याद
Spread the love

Google Doogle Angelo Moriondo: मोरियोनडो को एस्प्रेसो मशीनों (Espresso Machines) का गॉडफादर माना जाता है. उन्हें 1884 में सबसे पहले ज्ञात एस्प्रेसो मशीन का पेटेंट कराने का श्रेय दिया गया था.

कौन हैं Angelo Moriondo?

एंजेलो मोरियोनडो (Angelo Moriondo) का जन्म 6 जून, 1851 को इटली के ट्यूरिन में उद्यमियों के एक परिवार में हुआ था. Moriondo के दादा ने एक शराब प्रोडक्शन कंपनी की स्थापना की. मोरियोनडो के पिता ने कंपनी को संभाला. बाद में, एंजेलो ने खुद अपने भाई और चचेरे भाई के साथ लोकप्रिय चॉकलेट कंपनी, ‘मोरियोन्डो और गैरीग्लियो’ का निर्माण किया.

नाम (Name)एंजेलो मोरियोनडो
उपनाम (Nickname)एंजेलो
जन्म तारीख (Date of birth)6 जू़न 1851
जन्म स्थान (Place of born )ट्यूरिन, सार्डिनिया साम्राज्य
शिक्षा (Education )ज्ञात नहीं
गृहनगर (Hometown)ट्यूरिन, सार्डिनिया साम्राज्य
ऊंचाई (Height)ज्ञात नहीं
आँखों का रंग (Eye Color)ज्ञात नहीं
बालो का रंग( Hair Color)ज्ञात नहीं
मृत्यु की तारीख (Date of Death)31 मई 1914 (आयु 62)
मृत्यु का स्थान (Place of Death)मैरेंटिनो, ट्यूरिन, इटली
पेशा (Profession)आविष्कारक
राष्ट्रीयता (Nationality)इतालवी
मशहूर (Famous)एस्प्रेसो कॉफी मशीन के आविष्कारक
नेट वर्थ (Net Worth)$12.7 बिलियन
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)अविवाहित

1884 में पहली बार दुनिया के सामने लाई मशीन

Google ने बताया, ‘मोरियोनडो ने सोचा कि एक बार में कई कप कॉफी बनाने से वह तेज गति से अधिक ग्राहकों की सर्विस कर सकता है, जिससे उसे अपने प्रतिस्पर्धियों पर बढ़त मिल जाएगी.’ मोरियोनडो ने 1884 में ट्यूरिन के जनरल एक्सपो में अपनी एस्प्रेसो मशीन को प्रेजेंट किया. प्रेजेंटेशन से पहले उन्होंने मशीन को एक मैकेनिक की निगरानी में रखी. इसे जनरल एक्सपो में कांस्य पदक से सम्मानित किया गया.

मोरियोनडो ने 1884 में ट्यूरिन के जनरल एक्सपो में अपना आविष्कार प्रस्तुत किया , जहां इसे कांस्य पदक से सम्मानित किया गया । पेटेंट छह साल की अवधि के लिए 16 मई 1884 को “कॉफी पेय के आर्थिक और तात्कालिक कन्फेक्शन के लिए नई भाप मशीनरी, विधि ‘ए। मोरियोनडो’” के शीर्षक के तहत प्रदान किया गया था। मशीन वास्तव में आविष्कारक की प्रत्यक्ष देखरेख में काम कर रहे मार्टिना नामक एक मैकेनिक द्वारा बनाई गई थी।

First patent (16 May 1884) of the espresso coffee machine


इसे 20 नवंबर 1884, खंड 34, संख्या, 381 पर एक पेटेंट के साथ क्रमिक रूप से अद्यतन किया गया था । 23 अक्टूबर 1885 को पेरिस में पंजीकृत होने के बाद अंतरराष्ट्रीय पेटेंट द्वारा आविष्कार की पुष्टि की गई थी । बाद के वर्षों में, मोरियोनडो ने अपने सुधार जारी रखा अत्यधिक आविष्कार, प्रत्येक सुधार का पेटेंट कराया जा रहा है।

कॉफी पीने वालों के सामने आने वाली कठिनाइयों को किया दूर

Angelo Moriondo की मशीन ने कॉफी पीने वालों के सामने आने वाली कठिनाइयों को दूर किया, इस मशीन में एक बड़ा बॉयलर दिया गया था जो कॉफी को गर्म पानी के माध्यम से धक्का देता था, और एक दूसरा बॉयलर जो भाप बनाता था जो कॉफी को फ्लश करता था और कॉफी तैयार की जाती थी. 23 अक्टूबर, 1885 को पेरिस में रजिस्टर्ड होने के बाद एक अंतरराष्ट्रीय पेटेंट द्वारा आविष्कार की पुष्टि की गई.

Also Read | Satyendra Nath Bose [Hindi] | Google ने Doodle बनकार भारतीय भौतिक विज्ञानी को किया याद

कॉफी लवर्स के लिए यह एक काफी महत्वपूर्ण आविष्कार साबित हुआ. आज एक बटन दबाते ही हमें कॉफी मिल जाती है. हमें इसके लिए लाइन लग कर या लम्बा इंतजार नहीं करना पड़ता. इस आविष्कार ने कॉफी लवर्स की दुनिया को बदल के रख दिया और हमें Angelo Moriondo को उनके इस नायाब आविष्कार के लिए उनका शुक्रगुजार होना चाहिये.

एस्प्रेसो कॉफी मशीन की खासियतें

एस्प्रेसो कॉफी मशीन की बात की जाए तो इस मशीन में एक बड़ा बॉयलर शामिल था जो कॉफी को बेड के जरिए गर्म पानी से पुश करता था, दूसरा बॉयलर स्टीम बनाता था जो कॉफी के बेड को फ्लैश करता था और कॉफी बनाता था।

Also Read | Gama Pehalwan Google Doodle [Hindi] | रुस्तम-ए-हिन्द गामा पहलवान आखिर किस महत्वपूर्ण उपलब्धि से चूक गए?

एंजेलो को अपनी कॉफी मशीन का पेटेंट मिला, जिसका नाम ”न्यू स्टीम मशीनरी फॉर द इनोनॉमिक एंड इंस्टेंशियज कंफेक्शन ऑफ कॉफी बेवरेज, ‘मैथड  मोरियोनडो’।” मोरियोनडो ने लगातार कई सालों तक अपने आविष्कार में सुधार किया और पेटेंट करना जारी रखा। एंजेलो मोरियोनडो को 171वां जन्मदिन मुबारक हो।

Angelo Moriondo के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

एंजेलो मोरियोनडो ने क्या किया?

एंजेलो मोरियोनडो, वह व्यक्ति जिसने पहली ज्ञात एस्प्रेसो मशीन का पेटेंट कराया था। आज का डूडल अपना 171वां जन्मदिन मना रहा है।

एंजेलो मोरियोनडो कौन थे?

एंजेलो मोरियोनडो को एस्प्रेसो मशीनों का गॉडफादर कहा जाता है। इन्हें 1884 में सबसे पहले ज्ञात एस्प्रेसो मशीन का पेटेंट कराने का श्रेय दिया जाता है।

एंजेलो मोरियोनडो का जन्म कब हुआ था?

एंजेलो मोरियोनडो का जन्म 6 जू़न 1851 को हुआ था।

एंजेलो मोरियोनडो का जन्म कहां हुआ था?

एंजेलो मोरियोनडो का जन्म ट्यूरिन, सार्डिनिया में हुआ था।

एंजेलो मोरियोनडो की मृत्यु कब हुई थी?

एंजेलो मोरियोनडो की मृत्यु 31 मई 1914 को 62 वर्ष की अवस्था में हो गई थी।

एंजेलो मोरियोनडो मौत का कारण (Death Reason of Angelo Moriondo)

कॉफी मशीन के आविष्कारक एंजेलो मोरियोनडो की मृत्यु मेरेंटिनो, ट्यूरिन, इटली में 62 वर्ष की अवस्था में हो गई थी। इनकी मौत कैसे हुई थी इसका अभी तक कोई प्रमाण नहीं है।

Credit: The Economic Times

एंजेलो मोरियोनडो से जुड़े कुछ रोचक तथ्य (Angelo Moriondo Facts)

  • एंजेलो मोरियोनडो का जन्म ट्यूरिन, सार्डिनिया में हुआ था
  • 1884 में अपने आविष्कार एस्प्रेसो कॉफी मशीन के लिए वह दुनिया भर में मशहूर हुए थे।
  • 1884 में ट्यूरिन के जनरल एक्सपो में मोरियनडो ने अपना आविष्कार प्रस्तुत किया जहां इन्हें कांस्य पदक से सम्मानित किया गया।
  • एंजेलो मोरियोनडो ने आविष्कार को कभी भी औद्योगिक पैमाने पर उत्पादन में नहीं लिया।
  • 31मई 1914 को एंजेलो की मृत्यु 62 वर्ष में मैरेंटिनो, ट्यूरिन, इटली में हो गई थी।
  • एंजेलो के पिता जियाकोमो थे जिन्होंने बाद में अपने भाई एगोस्टिनो और चचेरे भाई गैरीग्लियो के साथ प्रसिद्ध चॉकलेट कंपनी “मोरियोनडो और गैरीग्लियो” की स्थापना की।
  • एंजेलो ने सिटी-सेंटर पियाज़ा कार्लो पेरिस में ग्रैंड होटल लिगुरु और वाया रोमा के गैलेरिया नाज़ियोनेल में अमेरिकन बार खरीदा था।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: