Dilip Kumar Latest News death Hindi Age, Wife, Films

भारतीय सिनेमा के दिग्गज दिलीप कुमार (Dilip Kumar) का 98 साल की उम्र में निधन

Hindi
Spread the love

Dilip Kumar Latest News: नई दिल्ली: भारतीय सिनेमा के सबसे प्रतिष्ठित अभिनेताओं में से एक दिलीप कुमार (Dilip Kumar) का आज सुबह मुंबई में निधन हो गया है, दिलीप कुमार के परिवार वालो ने कहा कि कुमार 98 वर्ष के हो चुके थे और पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे 98 वर्ष के थे .फैसल फारूकी (Faisal Farooqui) ने बुधवार को दिलीप कुमार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर लिखा, “भारी मन और गहरे दुख के साथ, मैं आपको यह बता रहा हु कि कुछ मिनट पहले हमारे प्यारे दिलीप कुमार साहब का निधन हो गया।” 

Dilip Kumar Latest News: लंबी बीमारी के चलते हुआ निधन

बता दें कि हिंदी फिल्म जगत में ‘ट्रेजेडी किंग’ के नाम से मशहूर हुए दिलीप कुमार पिछले मंगलवार से हिंदुजा अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे. उनका इलाज कर रहे डॉ. जलील पारकर ने बताया, ‘लंबी बीमारी के कारण सुबह साढ़े सात बजे उनका निधन हो गया.’

Dilip Kumar (दिलीप कुमार) Wife

दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार के परिवार में उनकी 76 वर्षीय पत्नी सायरा बानो (Saira Bano) हैं, जो बॉलीवुड की पूर्व अभिनेत्री हैं।  दिलीप कुमार ने भारतीय सिनेमा की कुछ सबसे सफल फिल्मों में अभिनय किया, जिनमें मुगल-ए-आज़म (Mughal e Azam), देवदास (Devdas), नया दौर (नया युग), राम और श्याम (Ram or Shyam) और मधुमती (Madhumati) शामिल हैं। 

दिलीप कुमार और सायरो बानो family

‘ट्रेजेडी किंग’ दिलीप कुमार: ‘Tragedy King’ Dilip Kumar

अपने दिलकश अंदाज, उलझे बालों और गहरी आवाज के साथ दिलीप कुमार को “द ट्रेजेडी किंग” (The Tragedy King) का उपनाम दिया गया। दिलीप कुमार (Dilip Kumar) ने 50 से अधिक वर्षों के फिल्मी सफर में लगभग 60 फिल्मों में काम किया। देव आनंद (Dev Anand) और राज कपूर (Raj Kapoor) के साथ, कुमार उन तीन बड़े नामों में से एक थे जिन्होंने 1940 से 1960 के दशक तक भारतीय सिनेमा के स्वर्ण युग में अपना दबदबा बनाया। 

Also Read: Know The Inspirational Quotes Of Swami Vivekananda On His Death Anniversary

Dilip Kumar Latest News: दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर, 1922 को पेशावर शहर में हुआ, जो अब पाकिस्तान में स्थित है। कुमार के बचपन का नाम मोहम्मद यूसुफ खान (Mohammad Yousuf Khan) था। कुमार के  पिता एक फल व्यापारी थे जो 1930 के दशक में अपने परिवार को भारत के मुंबई शहर में ले आये। कुमार को फिल्मों में अभिनय करने का सुझाव देविका रानी ने दिया था, जिन्होंने उन्हें 1944 में अपनी पहली फिल्म ज्वार भाटा (Sea Tied) में कास्ट किया था। हालांकि ज्वार भाटा फ्लॉप हो गई और प्रमुख फिल्म पत्रिकाओं ने उनके प्रदर्शन की आलोचना की, दिलीप कुमार अडिग थे और अंततः 1946 की फिल्म मिलन में काम किया। 

Dilip Kumar (दिलीप कुमार) Films

  • उनकी सबसे याद की जाने वाली फिल्मों में निभाये गयी भूमिकाओं में मुगल सम्राट अकबर और उनके बेटे जहांगीर के जीवन पर आधारित भव्य ऐतिहासिक रोमांस फ़िल्म, मुगल-ए-आज़म थी। 
  • 1960 में रिलीज़ हुई इस फिल्म को बनने में आठ साल लगे और इसकी लागत 15 मिलियन रुपये थी, लेकिन जल्द ही यह बॉलीवुड की अब तक की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में से एक बन गई। 
  • कुमार की पहली बड़ी बॉक्स-ऑफिस हिट 1947 में जुगनू (Jugnoo) थी जिसमें उन्होंने नूरजहाँ और 1948 की फिल्म शहीद (Shaheed) में अभिनय किया। 
दिलीप कुमार के किरदार

उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई तरह के किरदार निभाए – अंदाज़ (जेस्चर) में एक रोमांटिक हीरो, आन (गौरव) में एक स्वाशबकलर, देवदास में एक नाटकीय शराबी, ऐतिहासिक महाकाव्य मुगल-ए-आज़म में एक मुस्लिम राजकुमार आज़ाद (फ्री) में एक कॉमिक भूमिका निभाई , और सामाजिक फिल्म गंगा जमुना में एक डाकू का किरदार निभा कर लोगों को खूब मनोरंजित किया।

■ Also Read: Dilip Kumar Death: नहीं रहे बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार

1952 में महबूब खान (Mehboob Khan) की ब्लॉकबस्टर आन टेक्नीकलर में उनकी पहली फिल्म थी और उन्होंने अपनी फ़िल्म “ट्रेजेडी किंग” की भूमिका निभाई थी। उन्होंने 1950 के दशक में फुटपाथ, नया दौर (नया युग), मुसाफिर (यात्री) और पैग़ाम (संदेश) जैसी कई सामाजिक ड्रामा फिल्मों में अभिनय किया।

दिलीप कुमार का जीवन परिचय (Birth, Age, Caste, Religion)

Nameदिलीप कुमार
Real Nameमुहम्मद युसुफ खान
Nicknameट्रैजेडी किंग
Date of Birth  11 दिसंबर 1922
मृत्यु दिनांक7 जुलाई 2021
Age98 साल
Birth Placeपेशावर उत्तर-पश्चिम प्रोविंस, ब्रिटिश इंडिया
Home Townमुंबई
Nationalityभारतीय
Education QualificationNA
Religionइस्लाम
Marital Statusविवाहित

दिलीप कुमार जी का बॉलीवुड करियर 

दिलीप कुमार ने अपने करियर की शुरुआत फिल्म ‘ज्वार भाटा’ से की, जो वर्ष 1944 मे आई। हालांकि यह फ़िल्म सफल नहीं रही। उनकी पहली हिट फ़िल्म “जुगनू” थी। 1947 में रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने बॉलीवुड में दिलीप कुमार को हिट फ़िल्मों के स्टार की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया। 1949 में फ़िल्म “अंदाज़” में दिलीप कुमार ने पहली बार राजकपूर के साथ काम किया। यह फ़िल्म एक हिट साबित हुई। दीदार (1951) और देवदास (1955) जैसी फ़िल्मों में गंभीर भूमिकाओं के लिए मशहूर होने के कारण उन्हें ट्रेजडी किंग कहा जाने लगा। मुग़ले-ए-आज़म (1960) में उन्होंने मुग़ल राजकुमार जहाँगीर की भूमिका निभाई।

दिलीप कुमार (Dilip Kumar) | BBC Hindi
  • उनकी शीर्ष महिला सह-कलाकारों में मधुबाला (Madhubala), नरगिस (Nargis), निम्मी (Nimmi), मीना कुमारी (Meena Kumari), कामिनी कौशल (Kamini Kaushal) और वैजयंतीमाला (Vaijayntimala) शामिल थीं। 
  • 1966 में, दिलीप कुमार ने सायरा बानो से शादी की, जो उनसे उम्र में 22 साल छोटी थी, और इस जोड़े ने गोपी, सगीना महतो और बैराग में जैसी फिल्मों में साथ अभिनय किया।  1961 में, उन्होंने फ़िल्म गंगा जमुना में अभिनय किया, जिसमें उन्होंने और उनके भाई नासिर खान ने मुख्य भूमिकाएँ निभाईं। यह एकमात्र ऐसी फिल्म थी जिसे उन्होंने खुद प्रोड्यूस किया था। 
  • 1970 के दशक में दिलीप कुमार की भूमिकाएँ फिल्मों में कम देखी गईं, क्योंकि उस समय अमिताभ बच्चन जैसे युवा अभिनेताओं ने फिल्मों मुख्य भूमिका निभानी शुरू कर दी थी। 
  • उन्होंने कई फ्लॉप फिल्मों के बाद पांच साल का ब्रेक भी लिया, 1981 में हिट, क्रांति (Kranti) के साथ वापसी की, और अगले वर्ष, शक्ति (Shakti) में अमिताभ बच्चन के साथ फ़िल्म में भूमिका निभाई।
  • लेकिन डेविड लीन की 1962 की क्लासिक लॉरेंस ऑफ अरेबिया में शेरिफ अली की भूमिका निभाने का मौका ठुकराने के बाद वह अंतरराष्ट्रीय ख्याति से चूक गए। यह फ़िल्म मिस्र के एक अभिनेता उमर शरीफ के पास चली गयी थी। 

Dilip Kumar Latest News: ‘दिलीप कुमार अद्वितीय प्रतिभा के धनी थे

खराब फिल्मों की एक श्रृंखला के बाद, उन्होंने 1998 में राजनीति में अधिक सक्रिय भूमिका निभाई। उसी वर्ष, उन्हें पाकिस्तान में सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिला, जिससे हिंदू राष्ट्रवादी नाराज हो गए। दो साल बाद, वह छह साल के कार्यकाल के लिए नामांकित होने के बाद भारतीय संसद के ऊपरी सदन में विपक्षी कांग्रेस पार्टी के विधायक बने। 

दिलीप कुमार और राज कपूर

1994 में, उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार दिया गया

1994 में, उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार दिया गया, जो भारतीय सिनेमा में योगदान के लिए सर्वोच्च सम्मान है। अपने शोक ट्वीट में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कुमार को एक “सिनेमाई किंवदंती” कहा, जो “अद्वितीय प्रतिभा से धनी” थे। मोदी ने आगे लिखा कि दिलीप कुमार साहब का आकस्मिक निधन “हमारी सांस्कृतिक दुनिया के लिए एक क्षति” थी। 

2006 में उन्हें भारतीय सिनेमा (Indian Cinema) में  योगदान के सम्मान में भारत के राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार (Lifetime Achievement Award) दिया गया।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *