Spread the love

मगहर का इतिहास (History of Maghar in hindi): मगहर एक कस्बा और एक नगर पंचायत है जहाँ 13वीं सदी के प्रसिद्ध कवि कबीर की समाधि हिंदुओं द्वारा बनाई गई है और मजार मुसलमानों द्वारा एक दूसरे के बगल में स्थित है, जिससे पता चलता है कि कवि को दोनों धर्मों द्वारा कैसे सम्मान दिया जाता था। मगहर उत्तर प्रदेश राज्य में गोरखपुर के पास संत कबीर नगर जिले का एक शहर है। मगहर को धार्मिक स्थल माना जाता है। मगहर का ऐतिहासिक नाम ‘मरघरन’ है जिसका अर्थ है रास्ते में अपहरण।

इस तरह के अनुचित नाम के कारण, कोई भी शहर में नही आता था और वहां पर आजीविका शुरू करने के लिए नहीं आना चाहता था। 2011 में, मगहर की आबादी में 19,181 लोग खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत करते हैं जिससे पता चलता है कि संत कबीर उनके लिए इतने महान प्रभाव वाले थे। उन्हें मुसलमानों और हिंदुओं दोनों से प्यार था। अच्छी बात यह है कि उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग ने मगहर को पर्यटन स्थल के रूप में बढ़ावा देने की पहल की थी जहां हिंदुओं ने मंदिर और मुसलमानों ने कबीर जी की याद में समाधि का निर्माण किया हुआ है। 

History of Maghar in Hindi: मगहर के बारे में फैलाया गया झूठ 

पुराने पूर्वजों के अनुसार उन्होंने कहा था कि एक बार एक संत जो वहां विश्राम कर रहे थे। वह डकैतों से परेशान था जिसने संत को नाराज कर दिया और परिणामस्वरूप उस संत ने शहर को श्राप दिया कि यह एक बंजर भूमि होगी जिसमें कुछ भी अच्छा नहीं होगा। 

History of Maghar in Hindi: वाराणसी मगहर के निकट है और उस समय ऐसी मान्यता थी कि यदि मगहर में किसी की मृत्यु हो जाती है तो वह मृत्यु के बाद गधे की योनि को प्राप्त करेगा और सीधे नर्क में जाएगा जबकि वाराणसी में मरने पर आपको सीधा मोक्ष प्राप्त होगा और स्वर्ग चके जाओगे। लेकिन संत कबीर ने इस भ्रम का समर्थन नहीं किया, ओर इस बात का खंडन करने के लिए उन्होंने मगहर में मरने का फैसला किया। 

संत कबीर जी कौन हैं (Who is Saint Kabi) ? 

भारत के रहस्यवादी संत और कवि कबीर साहेब से पूरी दुनिया वाकिफ है। कबीर साहेब ने अपनी कविताओं के माध्यम से हिंदुओं और मुसलमानों दोनों को प्रभावित किया और उनके कर्मकांडों और सत्यज्ञान का कड़ा विरोध किया। उनका विरोध करने वाले यह भी बोलते थे कि कबीर जी के ज्ञान का कोई शास्त्र आधार नहीं था। कबीर साहेब ने मूर्ति पूजा का कड़ा विरोध किया और शराब, मांस के सेवन और ऐसा जीवन जीने के बारे में हिंदुओं और मुसलमानों की निंदा की, निंदा इसलिए भी करि क्योंकि यह सब बुराई परमात्मा की आत्मा (यानी मनुष्य जीव) को परमात्मा से दूर कर देती है। 

कबीर जी के ज्ञान को आमतौर पर कबीर दोहे (दोहे) के रूप में जाना जाता है। उनके कई दोहे सिख धर्म के पवित्र ग्रंथ-श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी में भी शामिल हैं। उन्होंने मुख्य रूप से मौखिक रूप से प्रचार किया। उनकी बोली में साधारण हिंदी थी जिसे एक आम आदमी आसानी से समझ सकता था। 

संत कबीर जी का जन्म कहाँ हुआ था? (Birthplace of Saint Kabir Ji)

रहस्यवादी कवि संत कबीर जी के “जन्म” के संबंध में कोई सटीक ऐतिहासिक विवरण नहीं हैं। फिर भी, कुछ लोगों का मानना ​​है कि वह भारत के वाराणसी (काशी) शहर में वर्ष १३९८ ईस्वी में “जन्म” हुआ था। किंवदंतियों के कई संस्करण हैं जो उनके जन्म को घेरते हैं। एक किंवदंती कहती है कि उनका जन्म एक ब्राह्मण विधवा से हुआ था, जिसने समाज की लाज-शर्म को देखते हुए कबीर जी को लहरतारा तालाब के पास छोड़ दिया था। बाद में, एक मुस्लिम बुनकर जोड़े नीरू और नीमा ने कबीर जी को पाया, उसे घर लाये और उनका पालन-पोषण किया। 

कबीर साहेब जी का स्तय परिचय (Introduction of Kabir Saheb Ji)

लेख के बीच में एक बार फिर से इस उपशीर्षक के आने से आपको हैरानी होगी। खैर, आपने ऊपर जो कुछ भी पढ़ा है, वह जानकारी का वह हिस्सा है जो आमतौर पर सालों से चली आ रही सिर्फ किवेंडती है और जो आज तक हमारी पुस्तकों और पुस्तकालयों में उपलब्ध है। 

जबकि कबीर साहेब जी के जन्म के बारे स्तय इस प्रकार है कि कबीर साहेब ने किसी माँ के गर्भ से “जन्म” नहीं लिया। वह मानव जाति के कल्याण के लिए अपने शाश्वत निवास “सतलोक” से पृथ्वी पर अवतरित हुए। यह एक मुख्य कारण है कि उनके जन्म का कोई सटीक ऐतिहासिक विवरUण नहीं है। 

Also Read: Rani Lakshmi Bai: जानिए रानी लक्ष्मीबाई जी की 10 मुख्य बात साथ ही जाने कैसे हुई उनकी मृत्यु?

जबाकी हमारे वेद गवाही देते है कि सर्वशक्तिमान प्रभु कभी भी माता के गर्भ से जन्म नहीं लेते और कुँवारी गाय के दूध से उनका पालन-पोषण होता है। ऋग्वेद मण्डल 10, सूक्त 4, मंत्र 3 में स्पष्ट लिखा है। सिर्फ अभी तक कबीर साहेब जी ने यह लीला करी और इसका उल्लेख संत गरीबदास जी, छुड़ानी, हरियाणा वाले ने अपनी वाणी में वर्णन किया है। उन्होंने अपनी वाणी के माध्यम से यह भी बताया कि कबीर जी प्रत्येक युग सतयुग, द्वापरयुग, त्रेतायुग और कलयुग में पृथ्वी पर अवतरित होते हैं। 

अपनी अमृत वाणी में कबीर साहेब जी ने वर्णन करते हुए कहते है:- 

सतयुग में सतसुकृत कह टेरा, त्रेता नाम मुनिन्दर मेरा । 

द्वापर में करुणामय कहा, कलयुग नाम कबीर धराया।। 

कबीर साहेब जी ने अपनी वाणी में कहा है कि वह सर्वोच्च सर्वशक्तिमान प्रभु हैं; 

“हाड चम लहू न मेरे, तारण-तरण अभय पद दाता मे हु कबीर अविनाशी”।। 

History of Maghar in Hindi: कबीर साहेब जी मगहर से सीधा सतलोक गए 

मगहर में कबीर साहेब की “मृत्यु” या उनके शाश्वत निवास सतलोक वापस चले गए जहाँ से वह इस पृथ्वी पर प्रकट हुए थे। कबीर साहेब जी जब 120 वर्ष के थे, तब उन्होंने मगहर नामक स्थान से इस संसार को अलविदा कहने का निर्णय लिया। मगहर स्थान जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश में है। उस समय के दौरान, हिंदू प्रचारकों ने एक भ्रम फैलाया कि काशी शहर में मरने वाले स्वर्ग में जाते हैं जबकि मगहर शहर में मरने वाले अगले जन्म में नरक में जाते हैं और गधे बन जाते हैं। इस अफवाह का खंडन करने के लिए कबीर साहेब ने मगहर शहर से सतलोक वापस जाने का फैसला किया। 

maghar leela by kabir saheb ji

History of Maghar in Hindi: काशी शहर हिन्दू राजा बीर देव सिंह बघेल के शासन में था जबकि मगहर मुस्लिम राजा बिजली खान पठान के शासन में था और दोनों राजा कबीर साहेब के शिष्य थे। कबीर साहेब जी ने काशी से पैदल ही मगहर की यात्रा शुरू की। राजा बीर सिंह बघेल अपनी सेना के साथ कबीर साहेब के साथ हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार उनके शव को दाह संस्कार के लिए दावा करने के इरादे से मगहर में आये थे।

यही बात जब बिजली खान को पता चली कि कबीर साहेब जी हिन्दू राजा बीर सिंह बघेल के साथ अपने अंतिम कुछ दिनों में रहने के लिए मगहर आ रहे हैं, तो उन्होंने उन सभी के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था की और यहां तक ​​कि उन्होंने कबीर साहेब के शव को इस्लामी परंपराएं से अंतिम संस्कार करने के लिए अपनी सेना तैयार कर ली। जब सब मगहर शहर पहुंचे तो कबीर साहेब ने बिजली खान को बताया कि वह स्नान करना चाहते हैं। बिजली खां ने कबीर साहेब जी से कहा कि आप जी के लिए पानी तैयार है। 

History & Story of Maghar in Hindi: कबीर साहेब जी द्वारा आमी नदी को बहाना

कबीर साहेब जी ने बिजली खां से कहा कि वह बहते पानी में स्नान करना चाहता है। बिजली खान ने कबीर साहेब को बताया कि एक “आमी नदी” यहाँ पर है लेकिन वह भगवान शिव जी के श्राप के कारण नदी सूख गई है, इसलिए उनके लिए बहते पानी में स्नान करना संभव नहीं होगा। कबीर साहेब ने बिजली खान से कहा कि वह उन्हें उस नदी के पास लेकर चले। जब वे आमी नदी के तट पर पहुँचे, तो कबीर साहब ने अपने हाथ से इशारा किया जैसे वे पानी को बुला रहे हैं और तुरंत नदी में पानी बहने लगा। तब कबीर साहेब जी ने बहते पानी मे स्नान किया। 

Story of Maghar by SA News Channel

जब कबीर साहेब जी आमी नदी में स्नान करके वापस आये, तो दोनों राजा इस बात पर बहस करने लगे कि शव को अंतिम संस्कार के लिए कौन ले जाएगा। इस पर कबीर साहेब जी दोनों राजाओं पर क्रोधित हो गए और उनसे कहा कि कोई भी उनके शव के लिए नहीं लड़ेगा। अंतिम संस्कार का मसला सुलझाने के लिए कबीर साहेब जी ने कपड़े की दो चादरें मांगीं। उन्होंने एक चादर को फर्श पर बिछाया और उस पर लेट गए, जबकि दूसरी चादर कबीर साहेब जी ने स्वयं को ढकने के लिए किया। उन्होंने दोनों राजाओं से कहा कि इन दोनों चादरों के बीच में जो कुछ आपको मिले उसे बराबर भागों में बांटकर उनकी व्यक्तिगत परंपराओं के अनुसार दाह संस्कार के लिए उपयोग करने का निर्देश दिया।

 

कबीर साहेब जी के मृत शरीर की जगह केवल सुगंधित फूल मिले 

जब कबीर साहेब इस पृथ्वी लोक को छोड़कर वापस सतलोक में चले गए तो उन्होंने जाते वक्त एक घोषणा की कि वे सतलोक जा रहे हैं जो स्वर्ग से बहुत दूर है और उन चादरों के बीच कोई शरीर नहीं है। लोगों ने कबीर साहेब के तेजतर्रार शरीर को आकाश में जाते देखा। जब उन्होंने चादर खोली तो उन्हें कबीर साहेब के शरीर की जगह सुगंधित फूल मिला। इस प्रकार कबीर साहेब जी अपने शरीर के साथ सतलोक वापस चले गए। 

मगहर में भाईचारे की मिसाल

History of Maghar in Hindi: जब कबीर साहेब ने मगहर से सशरीर सतलोक गए, तो वहां मौजूद सभी लोग फूट-फूट कर रोए जैसे कि उन्होंने माता-पिता को खो दिया हो। दोनों राजाओं ने उन फूलों और एक-एक चादर को बाँट दिया और अपनी धार्मिक मान्यताओं के अनुसार उनका अंतिम संस्कार कर दिया। हिन्दू राजा ने मगहर में उस स्थान पर एक स्मारक बनवा दिया। जबकि मुस्लिम राजा ने मकबरे का निर्माण करवा दिया जो आज एक दूसरे से सिर्फ 100 मीटर की दूरी पर हैं। कबीर जी उस समय लोगों को एक संदेश दिया कि सभी को मोक्ष प्राप्त करने के लिए वाराणसी आना बंद करना होगा। कबीर वाराणसी में फैली अंधी आस्था को रोकना चाहते थे।


Spread the love