Image Credit: BBC News

Melbourne: आज भारत और ऑस्ट्रेलिया (Ind vs Aus) के बीच हुए तीसरा और सीरीज के आखिरी वनडे मैच (ODI Match) में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से हराकर 3 ODI Series को 2-1 से अपने नाम कर ली, भारत (India) ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया (Australia) में ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर यह पहली द्विपक्षीय वनडे सिरीज़ (ODI Series) जीती है।

टीम इंडिया को मेजबान ऑस्ट्रेलिया की तरफ से 231 रनों का लक्ष्य मिला था, जिसे भारत ने 49.2 ओवर में तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया ।

आज के मैच में भारत ने टॉस जीतकर सीरीज के इस निर्णायक मैच में ऑस्ट्रेलिया को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया, वही भारत ने पहले फील्डिंग करने का फैसला किया। खराब मौसम के चलते मैच दस मिनट की देरी से शुरू हुआ। मैच शुरू होने के बाद सिर्फ दो गेंद डालने के बाद फिर खेल 20 मिनट के लिए रोकना पड़ा। वही पहले बल्लेबाजी करने आई ऑस्ट्रेलिया टीम की शुरूआत खराब रही, पिछले मैच की तरह इंडिया टीम ने ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाजों को चलने नही दिया।

खेल के तीसरे ओवर में ही भुवनेश्वर कुमार (Bhuvaneshvar Kumar) ने सलामी बल्लेबाज एलेक्स कैरी (05) को स्लिप में खड़े कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के हाथों कैच करवाकर पवेलियन का रास्ता दिखाया। ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान आरोन फिंच (Aron Finch) की खराब फॉर्म इस मैच में भी जारी रही ओर वह सिर्फ 14 रन ही बनाकर भुवनेश्वर कुमार के दूसरे शिकार बने ।

पिछले मैच की तरह ही इस मैच में भी उस्मान ख्वाजा (Usman Khawaja) और शॉन मार्श (Shaun Marsh) की जोड़ी ने ऑस्ट्रेलियाई टीम को संभाला और टीम का स्कोर ने 100 के पार पहुँचाया, लेकिन इनकी पारी भी ज्यादा नही चल पाई। उस्मान ख्वाजा (34) और शॉन मार्श (39) को यजुवेंद्र चहल (Yajuvendra Chahal) ने पारी के 24वें ओवर में दोनों का विकट झटककर मैच पर भारत की पकड़ फिर से बना दी। इनके पविलियन जाने के बाद पीटर हैंड्सकॉम्ब (Peter Handscome) ने अर्धशतकीय पारी खेली लेकिन दूसरे छोर से उन्हें अच्छा साथ नहीं मिला।

मार्कस स्टोइनिस 10 रन बनाकर चहल का तीसरा शिकार बने। मार्कस स्टोइनिस मैक्सवेल ने इसके बाद तेजी से रन बनाने की कोशिश उन्होंने चहल के ओवर में तीन चौके भी लगाये लेकिन उनका आक्रमक रुख ज्यादा देर ना चला उन्हें मोहम्मद शमी ने पविलियन का रास्ता दिखाया। एक छोर से पीटर हैंड्सकांब टिके रहे और उन्होंने 42वें ओवर में रिचर्डसन (16) के मिलकर टीम को 200 के पार पहुंचाया।

हैंड्सकांब और रिचर्डसन की जोड़ी को तोड़ने का काम चहल ने किया , इनके आउट होने के बाद पगबाधा आये और उन्होंने आते ही आक्रमक रुख दिखाया, पगबाधा ने 63 गेंद में पांच चौके की मदद से 58 रन बनाकर आउट हुए, चहल एडम जम्पा (08) को कैच कराकर पविलियन का रास्ता दिखाया।

Video Credit: B.N 24

इसके बाद शमी ने बिली स्टोनलेक को बोल्ड कर ऑस्ट्रेलियाई पारी का अंत किया।, युजवेंद्र चहल ने इस मैच में बेहतरीन बॉलिंग का प्रदर्शन करते हुए छह विकेट अपने नाम किये और ऑस्ट्रेलिया की टीम को 48.4 ओवर में 230 पर ऑल आउट करने पर निर्णायक भूमिका निभाई।

टीम इंडिया को 231 रनों के लक्ष्य मिला।

लक्ष्य का पीछा करने मैदान पर उतरी टीम इंडिया पर ऑस्ट्रेलियाई बोलर्स ने अपनी सटीक गेंदबाजी करते हुए शुरू से दबाव बनाने की कोशिश करि, टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma) 17 गेंदों पर 9 रन बनाकर पविलियन लौटे । इसके बाद बल्लेबाजी करने आये कप्तान विराट कोहली (Captain Virat Kohli) ने शिखर धवन (Shikar Dhawan) के साथ भारतीय पारी को संभाला दोनों ने 45 रनों की साझेदारी करि। लेकिन धवन 46 गेंद में 23 रन बनाकर मार्कस स्टॉयनिस का शिकार हुए।

तीसरे विकेट के लिए कोहली और धोनी ने 54 रनों की साझेदारी करि, कोहली को जाय रिचर्डसन ने पविलियन का रास्ता दिखाया। कोहली ने 62 गेंदों पर तीन चौकों की मदद से 46 रन बनाए, कोहली के बाद क्रीज पर आए केदार जाधव (Kedar Jadhav) को Mahendra Singh Dhoni का साथ मिला।

एक तरफ से धोनी ने संभाले रखा दूसरी ओर से जाधव ने बड़े शॉट्स खेलकर अपनी हाफ सेंचुरी लगाई, जो मैच में टर्निंग पॉइंट भी रही, ऑस्ट्रेलिया की तरफ से मिले 231 रनों के लक्ष्य को भारत ने 49.2 ओवर में तीन विकेट खोकर हासिल कर सीरीज ओर मैच को जीत लिया।

वही मिस्टर फिनिशर के नाम से मशहूर महेन्द्र सिंह धोनी ने इस मैच को 87* रनों का पारी खेलकर ऐतिहासिक जीत भारत के नाम करवाई, इस सीरीज को जीतने में धोनी की अहम भूमिका रही ।

धोनी ने 3 मैच की सीरीज में 3 पारियों में 2 बार नाबाद रहते हुए 193 की औसत और 73.10 के स्ट्राइक रेट से 193 रन बनाए। वो सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों की सूची पर शॉन मार्श (223) के बाद दूसरे नंबर पर रहे। धोनी को इस शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द सीरीज चुना गया।

Please follow and like us: