National Doctors’ Day [Hindi] | क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस, क्या है इसका इतिहास और महत्व

National Doctor’s Day 2022 [Hindi] Theme, Quotes, History, Importance
Spread the love

National Doctor’s Day 2023 [Hindi] :  डॉकटर्स के योगदान और बलिदान के सम्मान में हर साल डॉक्टर्स डे मनाया जाता है. डॉकटर्स के इसी योगदान और बलिदान के सम्मान में दुनिया भर में अलग-अलग तारीख को डॉक्टर्स डे मनाया जाता है. 

कब मनाया जाता है डॉक्टर्स डे? (When is National Doctor’s Day )

भारत में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) द्वारा  ‘राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस’ यानी डॉकटर्स डे 1 जुलाई को मनाया जाता है. इस तिथि को डॉ बिधान चंद्र की जयंती के रूप में चुना गया था.

डॉक्टर्स डे का इतिहास (History of National Doctor’s Day)

भारत में, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस पहली बार 1 जुलाई 1991 को डॉ. बिधान चंद्र रॉय के सम्मान में, स्वास्थ्य क्षेत्र में उनके योगदान को श्रद्धांजलि देने के लिए मनाया गया था. उन्होंने लोगों के लिए अपने जीवन का योगदान दिया, कई लोगों का इलाज किया और लाखों लोगों को प्रेरित किया. 
इसके अलावा, वह महात्मा गांधी के निजी चिकित्सक भी थे. वर्ष 1976 में, चिकित्सा, विज्ञान, सार्वजनिक मामलों, दर्शन, कला और साहित्य के क्षेत्रों में काम करने वाले प्रतिष्ठित व्यक्ति को पहचानने के लिए उनकी स्मृति में बीसी रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार की स्थापना की गई थी. 

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 2023 थीम (National Doctor’s Day 2023 Theme)

हर साल, राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस का उत्सव एक समर्पित विषय पर केंद्रित होता है जो हमें एक समान और समकालिक संचार में मदद करता है .इस बार राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 2023 की थीम ‘फ्रंट लाइन पर पारिवारिक डॉकटर है (Family Doctor on the Front Line)’.

राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे कैसे मनाया जाता है?

हर साल 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। इस दिन सभी डॉक्टरों को सम्मान करते है और उनके द्वारा किये गये कार्य की सराहना करके धन्यवाद देते है। डॉक्टर को लोग भगवान का दर्जा देते है। क्योंकि मरीजो को मौत के मुंह से बाहर निकाल लाते है। यह दिवस खास कर उन डॉक्टरों को समर्पित है जो गरीबों की निःशुल्क सहायता करते है।

Also Read | World Health Day: Slogan, Quotes in English, Healthy Life Habit

भारत और अन्य देशों में कुछ संगठन इसे अपने तरीके से मनाते हैं। डॉक्टर द्वारा किए गए योगदान को कोई भूला न सके, उसके लिए एक राष्ट्रीय जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किया जाता है। यह कार्यक्रम कोलकाता में रोटरी क्लब ऑफ सोशल एंड वेलफेयर ऑर्गनाइजेशन ऑफ नॉर्थ कोलकाता और ईस्ट कोलकाता द्वारा मनाया जाता है।

नेशनल डॉक्टर्स डे नारे (National Doctor’s Day Quotes & Slogans)

  • एक अच्छा डॉक्टर एक लंबे पर्चे की बजाएं लंबी सलाह देता है।
  • बीमारी का निदान अंत नहीं है बल्कि अभ्यास की शुरुआत है।
  • वह व्यक्ति डॉक्टर नहीं हो सकता, जो खुद ही बीमार हो।
  • अपने डॉक्टर से कभी झूठ नहीं बोलना चाहिये, आप अपने 5. डॉक्टर से आपकी बीमारी से जुड़ी कोई भी बात मत छिपाओ।
  • संसार में डॉक्टर ही हैं जिसे मनुष्य आस भरी नजरो से देखता है, जैसे वो एक भगवान से दुआ कर रहा हो।
  • जब आप एक बीमारी का इलाज करते है, तो पहले मन का इलाज करते है.
  • स्वास्थ्य लाभ में दवायें हमेशा जरुरी नहीं होती है, इसके लिए विश्वास भी जरुरी होता है.
  • निदान (Diagnosis) अंत नही है, लेकिन अभ्यास की शुरुआत है.
  • अक्सर डॉक्टर ने बीमारियों में अधिक आशंका जताई है.
  • दवाओं में संदेह, बीमारियों के रूप में भय पैदा करता है.
  • जब एक बीमारी के लिए बहुत से उपचार का सुझाव दिया जाता है तो इसका मतलब यह है कि उसे ठीक नहीं किया जा सकता है.
  • इलाज के उद्देश्य के लिए शरीर और आत्मा अलग – अलग नहीं हो सकती है, वे एक और अकेले है. “बीमार शरीर के रूप में मन को ठीक किया जाना चाहिए”.  
  • दवाओं के बारे में सबसे खराब बात यह है कि एक प्रकार की दवा एक के अलावा अन्य और जरुरतें बनाती है.
  • एक आदमी की उसकी बीमारी के खिलाफ इच्छा को बनाये रखना दवा की सबसे उत्तम कला है.
  • रोग कक्ष में, मनुष्य समझ की कीमत 10 सिक्के और चिकित्सा विज्ञान की कीमत 10 डॉलर के बराबर है.
  • दवाओं की कला में रोगी का मनोरंजन होता है जबकि प्रक्रति बीमारी को दूर कर देती है.
  • डॉक्टर अपने मरीजों के लिए अपारदर्शी (Opaque) और दर्पण (Mirror) की तरह होना चाहिए, लेकिन उसे क्या दिखाया गया है यह उन्हें कभी भी नहीं दिखाना चाहिए.
  • चिकित्सा, कभी – कभी स्वास्थ्य छीन लेती है और कभी – कभी स्वस्थ कर देती है.
  • एक चिकित्सक, एक रोग वाले अंग की तुलना में अधिक विचार करने के लिए बाध्य है, यहाँ तक कि पुरे आदमी की तुलना में और अधिक है – उसे अपनी दुनिया में उस आदमी को ही देखना चाहिए.
  • नर्स भी एक डॉक्टर के पर्चे के बिना सुविधा, सहानुभूति और देखभाल नहीं दे सकती.
  • एक अच्छा चिकित्सक बीमारी का इलाज करता है, जबकि एक महान चिकित्सक उस मरीज का इलाज करता है जोकि बीमार है.
  • केवल चिकित्सा की कला ही खुद का नाम बनाने के लिए सक्षम होती है, और उसी समय दूसरों को लाभ भी देती है.
  • जीवन केवल एक होता है दूसरों के लिए यह जीवन उपयुक्त है.
  • एक सच्चे डॉक्टर के निशान अस्पष्ट है.

डॉक्‍टर बी सी रॉय को 1961 को भारत रत्न के सम्मानित किया गया था

डॉक्‍टर बी सी रॉय को 4 फरवरी, 1961 को भारत रत्न के सम्मान से भी सम्‍मानित किया गया था। उन्होंने जादवपुर टीबी जैसे चिकित्सा संस्थानों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अस्पताल, चित्तरंजन सेवा सदन, कमला नेहरू मेमोरियल अस्पताल, विक्टोरिया इंस्टीट्यूशन (कॉलेज), चित्तरंजन कैंसर अस्पताल और महिलाओं और बच्चों के लिए चित्तरंजन सेवा सदन।

Read in English | Know About the Real Doctor on National Doctor’s Day

उन्हें भारत के उपमहाद्वीप में पहला चिकित्सा सलाहकार भी कहा जाता था, जो ब्रिटिश मेडिकल जर्नल द्वारा कई क्षेत्रों में अपने समकालीनों से आगे निकल गए।

National Doctor’s Day [Hindi] | हेल्दी रहने के तरीके

  • व्यक्ति को अपनी डाइट में कम शुगर का सेवन करना चाहिए. जैसे सोडा, स्पोर्ट ड्रिंक और एनर्जी ड्रिंक में मिलाई गई एडड शुगर सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है. ऐसे में डॉक्टर ने बताया कि व्यक्ति को कम से कम शुगर का सेवन करना चाहिए.
  • ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करना चाहिए. बता दें कि पानी के सेवन से सेहत को कई समस्याओं से दूर किया जा सकता है. इससे अलग पानी शरीर को डिटॉक्स करने के काम आता है.
  • आज की लाइफस्टाइल में ज्यादा बैठना और कम चलना वाला नियम फॉलो किया जा रहा है. ऐसे में बता दें कि व्यक्ति को स्वस्थ रहने के लिए ज्यादा चलना और कम बैठना चाहिए.
  • योग और एक्सराइज सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. ऐसे में नियमित रूप से की गई एक्सरसाइज आपको हेल्दी रखने में मदद कर सकती है.
  • भरपूर नींद लेने से न केवल मानसिक विकास होता है बल्कि व्यक्ति का शारीरिक विकास भी होता है. ऐसे में व्यक्ति को अच्छी सेहत के लिए कम से कम 6 से 7 घंटे की नींद लेनी जरूरी है.

डॉक्टर्स डे का महत्व (Importance of National Doctor’s Day in Hindi)

डॅाक्टर समाज में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। चिकित्सक समुदाय ने कोविड-19 महामारी से लड़ाई में भी अहम भूमिका निभाई है और इस समय भी सभी डॅाक्टर अपनी जान की परवाह किए बगैर देश सेवा में लगे हुए हैं।

FAQ’s about National Doctor’s Day in Hindi

Q. National Doctors day kab manaya jata hai?

Ans: 1 July

Q. National Doctors day 2023 in Hindi

Ans: 1 जुलाई 2022

Q. नेशनल डॉक्टर्स डे मनाने की शुरुआत कब हुई?

Ans: 1 जुलाई 1991 से।

Q. नेशनल डॉक्टर्स डे 2023 की थीम क्या है?

Ans: ‘Family Doctor on the Front Line’. (‘फ्रंट लाइन पर फैमिली डॉक्टर’)

Q. नेशनल डॉक्टर्स डे किसकी याद में मनाया जाता है?

Ans: प. बंगाल के दूसरे सीएम और महान चिकित्सक डॉ. बिधान चंद्र रॉय के जन्म दिन और पुण्यतिथि के रुप में मनाया जाता है?

डॉक्टर्स डे कब और किन-किन देशों में मनाया जाता है।

अमेरिका(America)सन 1933, 30 मार्च का पहली बार जार्जिया में मनाया गया था।- इस दिन शल्य चिकित्सा में पहली बार एनीथिशिया का उपयोग किया गया था। इस दिन को मनाने की कल्पना डॉ चार्ल्स बी- आलमंड के द्वारा की गई थी।
स्पेन (Spain), क्यूबा (Quba) अर्जेटिना(Argentina)3 दिसंबर को कार्लोस जुआन फिनले के जन्मदिवस के अवसर पर मनाया जाता है।
ईरान (Iran)23 दिसम्बर को डॉ- एविसेना के जन्मदिवस के अवसर पर मनाया जाता है।
ब्राजील (Brazil)18 अक्टूबर- डॉ- सेंट ल्यूक का जन्मदिवस होता है।
नेपाल (Nepal)4 मार्च– नेपाल मेडिकल एसोसिएशन के स्थापना के अवसर पर मनाया जाता हैं।
वियतनाम28 फरवरी 1955, को मनाया जाता है। इसी दिन यहां पर डॉक्टर्स डे की स्थापनी की गई थी। यह दिवस 27 व 28 या इसके आसपास किसी भी तारीख मनाया जा सकता है।
वेनजुएला10 मार्च को जोस मारिया वर्गास(physician) के सम्मान में मनाया जाता है

डॉ. बिधान चंद्र रॉय कौन थे?

डॉ बिधान चंद्र रॉय भारत के एक प्रसिद्ध चिकित्सक और पूर्व मुख्यमंत्री थे। उनकी अचीवमेंट के लिए भारत सरकार द्वारा उन्हें, भारत रत्न पुरस्कार से भी नवाजा गया था। वह पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री थे और पूर्वी भारत के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक थे।

डॉ विधान रॉय का जन्म 1 जुलाई 1882 मे पटना में हुआ था और इसी तारीख को वर्ष 1962 में उनकी मृत्यु हो गई थी। उनकी मृत्यु के समय उनकी आयु 80 वर्ष थी। वह पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। डॉक्टर रॉय ने भारत में अपनी मेडिकल की पढ़ाई पूरी की और further study के लिए विदेश चले गए।

डॉ. बिधान चंद्र रॉय की उपलब्धियां (Achivements)

पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान उन्होंने बहुत सारे चिकित्सा संस्थानों की स्थापना की। जैसे जावेदपुर टीबी हॉस्पिटल, चितरंजन सेवा सदन, कमला नेहरू मेमोरियल हॉस्पिटल, विक्टोरिया इंस्टीट्यूशन, चितरंजन कैंसर हॉस्पिटल और महिलाओं और बच्चों के लिए चितरंजन सेवा सदन।

वह भारत के इतिहास में उन दुर्लभ लोगों में से एक हैं, जिन्होंने एक ही समय में FRCS और MRCP की डिग्री हासिल की है। डॉक्टर बी सी रॉय को 4 फरवरी 1961 को देश के सबसे बड़े highest civilian reward यानी सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से नवाजा गया था।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.