National Pi Day 2022: 14 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है पाई डे तथा क्या है पाईमिनट?

National Pi Day 2022 [Hindi] History & Facts पाई का मान
Spread the love

National Pi Day 2022: पाई की ही मदद से हम यह जान पाए कि हमारे ब्रह्मांड का आकार अंडाकार है। यह जानकारी पिंस्टन यूनिवर्सिटी के एस्ट्रोफिजिक्स डिपार्टमेंट के चेयरमैन डेविड स्परजेल ने दी।

पाई किसे कहते है?

पाई या π एक गणितीय नियतांक है जिसका संख्यात्मक मान किसी वृत्त की परिधि और उसके व्यास के अनुपात के बराबर होता है। इस अनुपात के लिये π संकेत का प्रयोग सर्वप्रथम सन् 1706 में विलियम जोन्स ने सुझाया। इसका मान लगभग 3.14159 के बराबर होता है। यह एक अपरिमेय राशि है। पाई सबसे महत्वपूर्ण गणितीय एवं भौतिक नियतांकों में से एक है। गणित, विज्ञान एवं इंजीनियरी के बहुत से सूत्रों में π आता है।

गणित, विज्ञान और अभियांत्रिकी के कई महत्त्वपूर्ण फ़ॉर्मूले इस पर आधारित हैं। ज्यामिती में किसी वृत्त की परिधि की लंबाई और व्यास की लंबाई के अनुपात को पाई कहा जाता है। प्रत्येक वृत्त में यह अनुपात 3.141 होता है लेकिन दशमलव के बाद की पूरी संख्या का अब तक आंकलन नहीं किया जा सका है इसलिए इसे अनंत माना जाता है।

National Pi Day 2022: पाई का मान

π (पाई) = 22 / 7 = 3.1415926535897932384626433……… यह दशमलव के बाद अनन्त तक खींचा जा सकता है और इसके अंक किसी भी नियमित पैटर्न को फ़ॉलो नहीं करते।

National Pi Day 2022: पाई दिवस से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य

National Pi Day 2022: 14 मार्च, 3/14 यह तारिख विशेषकर गणितप्रेमियों के लिए, विशिष्ट तिथि प्रतिनिधित्व करती है गणित के एक विशेष चिह्न π (3.14) का। π जो कि अनुपात प्रदर्शित करता है वृत्त की परिधि और इसके व्यास/त्रिज्या का। यूँ तो इस अनुपात की आवश्यकता और इससे संबंधित शोध तो काफ़ी पूर्व से होते आ रहे थे किन्तु इसके इस चिह्न (π) का प्रयोग सर्वप्रथम 1706 में विलियम जोंस द्वारा किया गया, लेकिन इसे लोकप्रियता 1737 में स्विस गणितज्ञ लियोनार्ड यूलर द्वारा प्रयोग में लाना आरंभ करने के बाद मिली। ‘

Also Read: RBI launches UPI for Feature Phones [Hindi]: RBI ने Feature Phones के लिए शुरू की UPI सेवाए

पाई दिवस’ का विचार सर्वप्रथम 1989 में लैरी शौ द्वारा प्रतिपादित किया गया।

  • 2009 के पाई दिवस पर यू. एस. हाउस ऑफ़ रेप्रेजेंटेटिव्स ने इस तिथि को ‘राष्ट्रीय पाई दिवस’ के रूप में स्वीकार किया।
  • 2010 में गूगल ने इस तिथि पर वृत्त और पाई के चिह्नों को प्रदर्शित करता एक डूडल अपने होम पेज पर प्रस्तुत कर इस आयोजन में अपनी स्वीकृति और भागीदारी भी सुनिश्चित कर दी।
  • इस तिथि के समीपवर्ती एक और तिथि है 22 जुलाई या 22/7 जो कि ‘पाई एप्रोक्सिमेशन दिवस’ के रूप में मनाया जाता है जो कि फ्रैक्शन पद्धति में पाई के मान के सदृश्य ही है।
  • गणित के रोचक तत्वों की शृंखला में ‘पाई मिनट (Pi Minute)’ को भी शामिल कर लिया जाता है जब 14 मार्च को 1:59:26 AM / PM पर पाई के सात दशमलवीय मान प्राप्त हो जाते हैं यानि 3.1415926।
  • समस्त विश्व में इस अवसर पर पाई के प्रयोग, महत्त्व आदि पर चर्चा – परिचर्चा का आयोजन करने की परंपरा स्थापित होती जा रही है। जबकि संयोग से प्रख्यात भौतिकविद और चिन्तक अलबर्ट आइंस्टाइन का जन्मदिवस (14 मार्च 1879) भी है। जिस परमाणु उर्जा के रचनात्मक उपयोग का उन्होंने स्वप्न देखा था, आज के परिदृश्य में उससे जुड़ी विनाशकारी संभावनाओं को देखते हुए उनकी मनःस्थिति की हम सिर्फ कल्पना ही कर सकते हैं। विज्ञान की उस महान् विभूति को नमन।

पाई दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

National Pi Day 2022: संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रतिनिधि सभा द्वारा 2009 में 14 मार्च को पाई दिवस के रूप में मान्यता देने का प्रस्ताव पारित किया था। इसके बाद वर्ष 2019 में, यूनेस्को ने पाई दिवस को अंतर्राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में घोषित किया। Pi Day पहली बार 1988 में भौतिक विज्ञानी लैरी शॉ (Larry Shaw) द्वारा मनाया गया था।

Credit: Fortune Magazine

Pi Day की Date खुद पाई द्वारा ही चुनी गई है। यह दिन पाई के मान के आधार पर निर्धारित किया गया है, जो 3.14 (Month/Day Format) है यानि साल के तीसरे महीने की 14 तारीख अथार्त 14 मार्च।

पाई की खोज कब और किसने की थी?

गणित के सबसे महत्वपूर्ण कांस्टेंट और डिटर्मिननेंट पाई के बारे में बताया जाता है कि पाई के मान की गणना सबसे पहले प्रसिद्ध यूनानी गणितज्ञ आर्किमिडीज़ (287-212 ईसा पूर्व) ने की थी। परंतु कुछ भारतीय विद्वानों का कहना है कि महान गणितज्ञ और शून्य (Zero) के खोजकर्ता ‘आर्यभट्ट’ ने 5वीं सदी में ही Pi के मान का ठीक-ठीक अनुमान लगा लिया था।

पाई का मान कैसे निकाला जाता है?

पाई के मान को आर्यभट्ट के एक श्लोक से ही बड़ी आसानी से निकाला जा सकता है उन्होंने इस श्लोक को संस्कृत में लिखते हुए बताया है कि 100 में जोड़ें चार, 8 से करें गुना और फिर जोड़ें 62,000 इस कैलकुलेशन से जो उत्तर आता है वह 20000 परिधि वाले एक वृत्त का व्यास है। उनके अनुसार व्यास और परिधि का अनुपात (2πr/2r) 3.1416 है।

■ Also Read: Know about the Contribution of Srinivasa Ramanujan in Mathematics on World Mathematics Day?

अथार्त व्यास और परिधि का अनुपात: ((100+4)x8+62000)/20000 = 3.1416 है।

पाई के इस्तेमाल (Uses of Pi in Hindi)

गणित में पाई का इस्तेमाल सबसे ज्यादा ज्यामिति और त्रिकोणमिति में किया जाता है।

  • नदी की लंबाई नापने में: नदी की लम्बाई वक्र और घुमावदार होने के कारण, इसकी सटीक लम्बाई जो मापने के लिए पाई का इस्तेमाल किया जाता है।
  • पिरामिड का आकार: पाई की खोज से पहले ही Pi का इस्तेमाल पिरामिड के साइज़ की कैलकुलेशन करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था और आज भी किया जाता है।
  • तारों के बीच की दूरी: π के बिना दो तारों के बीच की घुमावदार दूरी को मापने लगभग असंभव है।
  • पृथ्वी का आकार: पाई के कारण ही पृथ्वी को गोल मानने वालों का भ्रम दूर हो सका, ऐसा तब हुआ जब Pinstan University, के एस्ट्रोफिजिक्स डिपार्टमेंट के चेयरमैन David Spergel ने एक गणना के जरिए यह जानकारी दी कि हमारी पृथ्वी का आकार अंडाकार है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: