संत रामपाल जी महाराज का 71वां अवतरण दिवस 2021

संत रामपाल जी महाराज का 71वां अवतरण दिवस 2021: जीवन परिचय, नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

News Religion
Spread the love

अवतरण दिवस 2021 (संत रामपाल जी अवतरण दिवस): संत रामपाल जी महाराज का 71वां अवतरण दिवस (अवतार का दिन) पर आइए जानते हैं कि संत रामपाल जी महाराज को अंतिम दूत, पैगम्बर, गुरु क्यों माना जाता है जो प्रसिद्ध भविष्यवक्ताओं की भविष्यवाणियों में बताए गए स्वर्ण युग को ला सकते हैं। यह सब जानने के लिए इस ब्लॉग को पूरा पढ़ें। 

संत रामपाल जी का संक्षिप्त जीवन परिचय

संत रामपाल जी (जन्म 8 सितंबर 1951 को सोनीपत, हरियाणा में हुआ। जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज अपने भक्तों को नाम-दीक्षा देने से पहले सिंचाई विभाग, हरियाणा में जूनियर इंजीनियर के पद पर कार्यरत थे। अन्य धार्मिक व्यक्तियों की तरह, पहले वह भी हिंदू पौराणिक कथाओं में विभिन्न देवताओं के भक्त थे, लेकिन संत रामदेवानंद जी से सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के बाद उन्होंने अपना जीवन सत शास्त्रों अनुकूल (सभी धर्मों के शास्त्रों पर आधारित) साधना करने में समर्पित कर दिया और 17 फरवरी 1988 को अपने सतगुरुदेव संत रामदेवानंद जी महाराज से नाम दीक्षा ली। 

1994 में, उनके गुरु जी स्वामी रामदेवानंद जी ने एक बयान के साथ उन्हें अपना उत्तराधिकारी चुना और अपने अन्य शिष्यों के सामने कहा कि: “इस पूरी दुनिया में आपके (संत रामपाल जी) जैसा कोई दूसरा संत नहीं होगा” और तब से ही संत रामपाल की के पूज्य गुरुदेव स्वामी रामदेवानंद जी ने संत रामपाल जी को नाम-दीक्षा देने का आदेश दिया। तब से ही संत रामपाल जी अपनी नौकरी छोड़ दी और घरों, गांवों, शहरों में जाकर और आध्यात्मिक प्रवचन देकर इस सच्चे आध्यात्मिक ज्ञान को फैलाने में खुद को पूरी तरह से समर्पित कर दिया। 

संत रामपाल जी महाराज का एकमात्र उद्देश्य

संत रामपाल जी महाराज का एकमात्र उद्देश्य

हमें मानव जीवन के वास्तविक उद्देश्य को समझाना और हमें सच्ची पूजा देना, मोक्ष प्राप्ति के लिए संत रामपाल जी और उनके प्रवचनों का वास्तविक उद्देश्य है। कबीर साहेब जी के श्लोकों में भी यही कहा गया है:- 

“मानुष जन्म दुर्लभ है, ये मिले ना बारम्बार। 

जैसे तरुवर से पता टूट गिरे, बहूर ना लगता डार।।” 

हम सभी मानते हैं कि ईश्वर एक है और राम, अल्लाह, ईश्वर, परमेश्वर, रब आदि सभी एक ही शब्द ईश्वर के पर्यायवाची हैं, फिर हम इतने धर्मों में क्यों बंटे हुए हैं?  इसका उत्तर संत रामपाल जी अपने सच्चे आध्यात्मिक ज्ञान (पवित्र शास्त्रों के प्रमाणों के साथ) के माध्यम से दे रहे हैं कि कबीर प्रभु सर्वशक्तिमान ईश्वर हैं जो मौजूद सभी आत्माओं के एकमात्र पिता हैं और मानवता हमारा धर्म है जो अन्य सभी धर्मों से ऊपर है। 

“जीव हमारी जाति है, मानव धर्म हमारा।

हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, धर्म नही कोई न्यारा।।” 

कबीर भगवान भी कहते हैं:- 

“वही सनक सानंदन, वही चार यारी।

तत्वज्ञान जाने बीना, बिगड़ी बात सारी।।” 

संत रामपाल एकमात्र विश्व विजयी संत क्यों हैं? 

संत रामपाल जी महाराज न केवल विश्व विजयी संत हैं, बल्कि वे कबीर भगवान के अवतार भी हैं, जो स्वयं इस धरती पर अवतरित हुए हैं ताकि उनके वह हम को सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान शास्त्रों के आधार पर बता सके।

विभिन्न प्रकार के प्रमाण और भविष्यवाणियां हैं जो स्पष्ट रूप से इंगित करती हैं कि 21वीं सदी के प्रारंभ में, भारत से विशाल क्षमता वाले सर्वोच्च महापुरुष का उदय होगा। जिनके मार्गदर्शन में विश्व शांतिमय हो जाएगा, सभी धर्म एक हो जाएंगे, हर घर में तत्वज्ञान की चर्चा होगी, और सभी पवित्र शास्त्रों के अनुसार कबीर परमेश्वर की पूजा करेंगे। 

परमेश्वर कबीर जी का आदेश

पवित्र कबीर सागर, बोध सागर में पृष्ठ 134 और पृष्ठ 171 पर, परमेश्वर कबीर जी ने स्वयं उस समय का उल्लेख किया है जब उनका वंश आएगा जो सभी झूठे ज्ञान और प्रथाओं को मिटाकर शांति विश्व भर में शांति लाएगा। उन्होंने कहा कि कलयुग के 5505 वर्ष बाद मेरा 13वें वंश आकर सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान देगा। वर्ष 1997 में कलयुग में 5505 वर्ष पूरे बीत जाने पर उसी वर्ष कबीर परमेश्वर संत रामपाल जी से आकर मिले और उन्हें अपनी पवित्र आत्माओं के बीच मोक्ष के मंत्र देने का आदेश दिया। कबीर जी के श्लोकों में भी यही स्पष्ट होता है:- 

“पांच सहंस अरु पंच, जब कलयुग बीत जाए।

महापुरुष फरमान तब, जग तारन को आए।।” 

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी 

प्रसिद्ध फ्रांसीसी भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने 1555 ईस्वी में एक महापुरूष के बारे में निम्नलिखित भविष्यवाणियां की हैं:-

  • उन्होंने उल्लेख किया है कि ग्रेट शायरन की मां 3 बहनें होंगी।  वह न तो मुसलमान होगा और न ही ईसाई, वह निश्चित रूप से हिंदू होगा और उस भूमि से होगा जहां 5 नदियां मिलती हैं (अर्थात भारत में पंजाब) उसके 2 बेटे और 2 बेटियां होंगी। 
  • उन्होंने छठी शताब्दी की शुरुआत में उल्लेख किया था कि अब से 450 साल बाद (यानि 2006 में) एक हिंदू संत की बात पूरी दुनिया में होगी। 
  • उन्होंने शताब्दी 1 श्लोक 50 में उल्लेख किया है कि महान शायरन एक ऐसे देश से होगा जो 3 तरफ से पानी से घिरा हुआ है, और इसका नाम एक महासागर से लिया गया है। 
  • उन्होंने 6वीं 70वीं शताब्दी में उल्लेख किया है कि वह अपने शिष्यों को 3 चरणों में पूजा करवाएंगे। 
  • वह अपने द्वारा खोजे गए आध्यात्मिक ज्ञान के आधार पर एक स्वर्ण युग शुरू करेगा। 

उपरोक्त सभी भविष्यवाणियां संत रामपाल जी पर पूरी तरह फिट बैठती हैं क्योंकि उन्होंने ही हर धर्मगुरु को चुनौती दी है। लेकिन उनमें से कोई भी उनके ज्ञान पर सवाल नहीं उठा सकता। वह अकेले हैं जो 3 चरणों में पूजा कर और करवा रहे हैं। संत रामपाल जी ही है जिनकी सन 2006 और 2014 में दुनिया भर में चर्चा हुई थी। 

संत रामपाल जी अवतरण दिवस: श्री तुलसीदास जी की भविष्यवाणी

श्री तुलसीदास साहब (जयगुरुदेव संप्रदाय, मथुरा से) ने भी उस सर्वोच्च नेता की उम्र के बारे में भविष्यवाणी की है। 7 सितंबर 1971 को प्रकाशित शाकाहारी पत्रिका में उन्होंने बयान दिया है कि इस दिन महान नेता ने 20 साल पूरे कर लिए हैं। संत रामपाल जी महाराज का जन्म 8 सितंबर 1951 को हुआ और 7 सितंबर 1971 को संत रामपाल जी पूरे 20 वर्ष के हो चुके थे। 

अन्य भविष्यवक्ताओं द्वारा भविष्यवाणी 

  • भाई बाले वाली जन्म सखी से इस बात के प्रमाण मिलते हैं कि वह महापुरुष पंजाब से होगा, जाट जाति से होगा, और बरवाला से अपना आध्यात्मिक उपदेश देगा। उनके जीवन इतिहास के अनुसार, ये भविष्यवाणियां केवल संत रामपाल जी पर ही सटीक बैठती हैं। 
  • इसके साथ ही उपरोक्त भविष्यवाणियों के समर्थन में काइरो (इंग्लैंड), जीन डिक्सन (अमेरिका), मिस्टर एंडरसन (अमेरिका) आदि की कुछ भविष्यवाणियाँ भी हैं। 

पवित्र शास्त्रों से प्रमाण

  • पवित्र गीता अध्याय 4 श्लोक 32, 34और अध्याय 15 श्लोक 1-4 में गीता ज्ञानदाता किसी तत्वदर्शी संत की शरण में जाने को कह रहा है जो सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान देगा
  • कुरान शरीफ के सूरत फुरकानी 25:59 में उसी तत्वदर्शी संत, बखाबर या इलमवाला के रूप में उल्लेख किया गया है। 
  • पवित्र गीता के अध्याय 17 श्लोक 23 (ओम-तत्-सत) के अनुसार मोक्ष के लिए 3 चरणों में मंत्र देने की प्रथा और पवित्र सामवेद के क्रमांक 822 से अध्याय 3 खण्ड 5 श्लोक 8, पूजा की सच्ची विधि है। पवित्र कुरान शरीफ में सूरत फुरकानी 42:1 (ऐन-सीन-काफ) में भी इसका उल्लेख है। 

जगतगुरु संत रामपाल जी महाराज इस पूरे विश्व में एकमात्र तत्वदर्शी संत या बाखाबर या सतगुरु हैं जिन्होंने ब्रह्मांड के निर्माण के साथ प्रासंगिकता में पवित्र गीता के अध्याय 15 श्लोक 1-4 का अर्थ उचित रूप से समझाया है और पवित्र शास्त्रों के अनुसार सही भक्ति विधि भी बता रहे है। इस पूरे विश्व में वह अकेले तत्वदर्शी संत है जिन्होंने सभी पवित्र शास्त्रों के सार को तार्किक अर्थों के साथ बताया है।

“सतगुरु के लक्षण कहू, मधुर बैन विनोद।

चार वेद षष्ट शास्त्र, कहे अठारा बोध।।” 

संत रामपाल जी महाराज लाएंगे स्वर्ण युग

अपने सच्चे आध्यात्मिक प्रवचनों के माध्यम से, संत रामपाल जी ने एक ऐसे समाज का निर्माण करने में कामयाबी हासिल की है जो आज मौजूद सभी सामाजिक बुराइयों से मुक्त है। वह अपने अनुयायियों के माध्यम से सतज्ञान का प्रचार कर जनता तक पहुंचा रहे है। 

Credit: SA News Channel

उन्होंने अपने आध्यात्मिक उपदेशों की मदद से नशा, दहेज, भ्रष्टाचार, कन्या भ्रूण हत्या आदि जैसे श्रापों को जड़ से मिटाने में कामयाबी हासिल की है। इस प्रकार, वह एक स्वर्ण युग शुरू करने के अपने वादे पर कायम है, जैसा कि ऊपर सूचीबद्ध भविष्यवाणियों में बताया गया है। 

“सर्व कला सतगुरु साहेब की, हरि आये हरियाने नु” 

विभिन्न तथ्यों और उदाहरणों के माध्यम से यह स्पष्ट रूप से पता चलता है कि संत रामपाल जी ही एक हैं, जिनकी दुनिया प्रतीक्षा कर रही है।  उसके पास कलयुग को सतयुग में परिवर्तन करने की अद्भुत क्षमता है और यह वर्णन करना असंभव है कि उन्होंने मानव जाति के लिए क्या किया है। अत: इन सभी प्रमाणों को देखने या पढ़ने पर प्रभु प्रेमी आत्मओं को अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहिए और संत रामपाल जी की शरण में आना चाहिए। 

“गरीब, समझा है तो सर धर पाव, बहूर नहीं रे ऐसा दांव।” 

संत रामपाल जी के शिष्यों ने कहा कि सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान स्वच्छ और स्वस्थ जीवन का आधार हो सकता है क्योंकि इसे जानने के बाद कोई बुरा काम करने के बारे में सोच भी नहीं सकता।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *