Swami Vivekananda Jayanti in Hindi: National Youth Day पर युवाओं को सीख

Home Hindi Swami Vivekananda Jayanti in Hindi: National Youth Day पर युवाओं को सीख
Swami Vivekananda Jayanti [Hindi] Quotes & Facts on National Youth Day
Spread the love

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda Jayanti) के बारे में कई बार कहा जाता है कि उन्होंने भारत (India) आजादी (Freedom) के लिए कुछ नहीं किया था. हकीकत यह है कि उन्होंने हर तरह की आजादी की पैरोकारी की. देश के सभी स्वतंत्रता सेनानियों के प्रेरणास्रोत बने और देश के हर व्यक्ति को जागृत करने पर जोर दिया. स्वामी जी ने राष्ट्रनिर्माण के लिए लोगों को तैयार करने का काम किया.

भारत (India) के युगपुरुषों में गिने जाने वाले स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) युवा पीढ़ी के लिए आदर्श माने जाते हैं. हर विषय पर उनके विचारों की जानकर उनकी विवेचना होती है. स्वामी जी ने अमुक विषय पर क्या कहा और क्यों कहा इस हमेशा मनन होता रहता है. इसमें आजादी भी एक विषय है जिस पर स्वामी जी के कुछ अलग ही विचार थे. भारत की आजादी (Independence of India) की लड़ाई पर स्वामी जी का योगदान उनके विचारों और कार्यों से स्पष्ट होता है. सच तो है यह कि स्वामी जी गांधी जी से लेकर अनेक स्वतंत्रता सेनानियों के प्रेरणा स्रोत रहे और देशवासियों को तैयार होने के लिए कहते रहते थे.

Swami Vivekananda जी का विवरण

नाम  स्वामी विवेकांनद
  उपनाम  रेन्द्र नाथ दत
  जन्म  12 जनवरी 1863 
  जन्मस्थान   कोलकाता के सीमुलिया में
  पिता  विश्वनाथ दत्त
   माता  भुवनेश्वरी देवीजी
  मृत्यु  4 जुलाई 1902
  मृत्युस्थान  बेलूर मठ, हावड़ा

स्वामी विवेकानंद के विचार | Thoughts Of Swami Vivekananda

  • ‘जब तक जीना, तब तक सीखना’- अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक हैं.
  • दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो.
  • खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है.
  • एक नायक बनो, और सदैव कहो – ‘मुझे कोई डर नहीं है’.
  • हम जो बोते हैं वो काटते हैं. हम स्वयं अपने भाग्य के निर्माता हैं.
  • जितना बड़ा संघर्ष होगा जीत उतनी ही शानदार होगी.
  • उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाये.
  • एक समय में एक काम करो और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमे डाल दो और बाकी सब कुछ भूल जाओ.
  • सच्ची सफलता और आनंद का सबसे बड़ा रहस्य यह है- वह पुरुष या स्त्री जो बदले में कुछ नहीं मांगता. पूर्ण रूप से निःस्वार्थ व्यक्ति, सबसे सफल हैं.

■ Also Read: Know The Inspirational Quotes Of Swami Vivekananda On His Death Anniversary

स्वामी विवेकानंद शिकागो भाषण शून्य पर ही क्यों बोले – ( Swami Vivekananda Speech)

Swami Vivekananda Jayanti (National Youth Day) यह एक मशहूर कहानी है। विवेकानंद ई.स1893 में शिकागो में की गई विश्व धर्म की धर्ममहासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व करने के लिए गए थे। जब वो वहां पहुंचे तो आयोजकों ने उनके नाम के आगे शून्य लिख दिया था। जानकारी के मुताबिक ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि कुछ लोग उन्हें परेशान करना चाहते थे।

Swami Vivekananda Jayanti Fact (Hindi)

  • स्वामी विवेकांनद के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था और माता का नाम भुवनेश्वरी देवीजी था। 
  • वे सदा अपने को ‘गरीबों का सेवक’ कहते थे। भारत के गौरव को देश-देशान्तरों में उज्ज्वल करने का उन्होंने सदा प्रयत्न किया।
  • मेडिकल रिपोर्ट में स्वामी विवेकानंद की मौत की वजह दिमाग की नसें फटना बताई गई है।
  • स्वामी विवेकानंद कहते है की आप अपने आप से सीखना है की सब तुम्हें कोई और नहीं सीखा पाता आपको और मनुष्य आध्यात्मवादी नहीं बना पाता आपको सब सिखा सकता है। 
  • विवेकानंद ई.स1893 में शिकागो में की गई विश्व धर्म की धर्ममहासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व करने के लिए गए थे। 

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) की मृत्यु कैसे हुई

स्वामी विवेकानंद 1887 में अधिक तनाव और खाने की कमी के कारण वो बीमारी पड़ गए थे। उसी कारण वह पित्त में पथरी और दस्त से भी पीड़ित हुए थे । उनके निधन की वजह तीसरी बार दिल का दौरा पड़ना था। शंकर ने उस बात का भी सबके सामने खुले से बात किया था कि स्वामी विवेकानंद ने भारत वापस आने से के लिए अपनी मिस्र की यात्रा में कटौती क्यों की थी।

PM Modi

स्वामी विवेकानंद के प्रश्न (Swami Vivekananda)

1 .विवेकानंद की पत्नी कौन है ?

उन्होंने शादी नहीं की थी उन्ही की कोई भी पत्नी नहीं थी। 

2 .हम राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाते हैं ?

स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को मनाने के लिए राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है।

3 .विवेकानंद की मृत्यु क्या हुई?

उनकी मृत्यु 4 जुलाई 1902 के बेलूर मठ, हावड़ा में हुई थी। 

4 .स्वामी विवेकानंद की बचपन की महत्वाकांक्षा क्या थी?

उन्होंने अपने तर्कसंगत दिमाग से और मां अपने धार्मिक स्वभाव से अपनी माँ से उन्होंने आत्म-नियंत्रण की शक्ति सीखी

5 .किस उम्र में विवेकानंद की मृत्यु हो गई?

स्वामी विवेकानंद की मौत 39 वर्ष की उम्र में हुई थी। 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: