World Book Day 2021: विश्व पुस्तक दिवस पर जानिए कौनसी पुस्तक आपके लिए सर्वश्रेष्ठ?

World Book Day 2021: आज विश्व पुस्तक दिवस 2021 है इसे विश्व पुस्तक दिवस और कॉपीराइट दिवस (World Book and Copyright Day) के नाम से भी जाना जाता है। वर्ल्ड की बुक कैपिटल 2021 मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर है । विश्व पुस्तक दिवस यूनेस्को (UNESCO) और दुनिया भर के अन्य संबंधित संगठनों द्वारा लेखकों, पुस्तकों को दुनिया भर में सम्मान देने, पढ़ने की कला को बढ़ावा देने इत्यादि के लिए मनाया जाता है । विश्व पुस्तक दिवस (World Book Day 2021) पर दुनियाभर में कई जगहों पर बड़े-बड़े पुस्तक मेले, साहित्य और लोगों के जीवन में शिक्षा का क्या महत्व है इसके लिए कार्यक्रम किए जाते हैं । हालांकि इस साल कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन नहीं किया जा रहा है । 

World Book Day Hindi Theme

विश्व पुस्तक दिवस का इतिहास (World Book Day History)

विश्व पुस्तक दिवस का इतिहास (World Book Day History) शुरू हुआ 23 अप्रैल 1995 को हुई जब यूनेस्को ने विश्व पुस्तक दिवस के रूप में इसे चुना । इस विश्व पुस्त5 दिवस के दिन विलियम शेक्सपियर (William Shakespeare), मिगुएल डे सर्वंट्स (Miguel de Cervantes) और इंका गार्सिलसो डे ला वेगा (Inca Garcilaso de la Vega) सहित महान साहित्यकारों को श्रद्धांजलि दी गई थी, जिनकी मृत्यु इसी दिन हुई थी आपको बता दें कि 23 अप्रैल और किताबों के बीच का संबंध सबसे पहले 1923 में स्पेन के बुकसेलर्स (booksellers) ने मिगुएल डे सर्वंट्स (Miguel de Cervantes) को सम्मानित करने के लिए बनाया गया था, जिनकी आज ही के दिन मृत्यु हो गई थी । विश्व पुस्तक दिवस को 1995 में पेरिस में आयोजित यूनेस्को (UNESCO) जनरल कॉन्फ्रेंस द्वारा दुनिया भर में लेखकों और पुस्तकों को श्रद्धांजलि और सम्मान देने के लिए अंतिम रूप दिया गया था और विश्व पुस्तक दिवस की शुरुआत यही से हुई, जिसे आज विश्व के अधिकतर लोग मनाते है ।

कॉपीराइट डे क्या है ? (What is Copyright Day ?)

विश्व पुस्तक दिवस (International Book Day) को कॉपीराइट डे (Copyright Day) के नाम से भी जाना जाता है। कॉपीराइट यह एक कानूनी अवधारणा है, जो ज्यादातर सरकारों द्वारा लागू की जाती है, जो लेखकों या रचनाकारों को मूल रूप से सीमित समय के लिए विशेष अधिकार प्रदान करती है । असल में, यह कॉपी करने का अधिकार है । यह कॉपीराइट (Copyright) धारक को कार्य और अन्य, संबंधित अधिकारों के लिए श्रेय दिए जाने का अधिकार भी देता है । तो, यह एक बौद्धिक संपदा का रूप है । 

विश्व पुस्तक दिवस (International Book Day) का उद्देश्य

विश्व पुस्तक दिवस (International Book Day) का उद्देश्य यह है कि इस अवसर पर, पुस्तकों और लेखकों को दुनिया भर में श्रद्धांजलि दी जाती है और लोगों को पढ़ने के आनंद की खोज के लिए प्रोत्साहित किया जाता है । इस दिन उन लोगों को भी सम्मान दिया जाता है जिन्होंने सामाजिक और सांस्कृतिक प्रगति में अपूरणीय योगदान दिया है । सहिष्णुता की सेवा में बच्चों और युवा लोगों के साहित्य के लिए यूनेस्को (UNESCO) पुरस्कार प्रदान किया जाता है । इसमें कोई भी संदेह नहीं है कि यह दिन दुनिया भर के लेखकों, साहित्यकारों, प्रकाशक, शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष, सार्वजनिक और निजी संस्थानों, मानवीय एनजीओ और मास मीडिया सहित पुस्तक उद्योग के हितधारक साक्षरता को बढ़ावा देने और सभी की मदद करने के लिए एक प्लेटफार्म बन गया है जिससे सबको शैक्षिक संसाधन मिल सकें ।

विश्व पुस्तक दिवस (World  Book Day) कैसे मनाया जाता है?

विश्व पुस्तक दिवस (International Book Day) कैसे मनाया जाता है? यह दिवस समारोह साहित्य और पढ़ने पर केंद्रित है और विशेष रूप से देशीय या स्थानीय भाषाओं को बढ़ाने और उनकी सुरक्षा पर पुरजोर देता है । सितंबर 2007 में स्थानीय (indigenous) लोगों के अधिकारों की घोषणा को अपनाने के बाद से यूनेस्को स्वदेशी लोगों के लिए प्रभावी रूप से प्रतिबद्ध है और अपने अधिकारों की बेहतर मान्यता के लिए काम करना जारी रखता है । यूनेस्को ज्ञान और भाषा को बढ़ावा देने और संरक्षित करने के लिए स्थानीय समुदायों का भी समर्थन करता है । ज्ञान कभी भी बेकार नहीं होता है, और यह कहा जाता है कि पुस्तक विभिन्न संस्कृतियों, पहचानों और भाषाओं के माध्यम से अपनी विशिष्टताओं को प्रकट करते हुए एक कहानी और एक सामान्य विरासत के आसपास लोगों को एक साथ लाती है ।

कोविड-19 (Covid-19) महामारी की वजह से इस साल भी ऑनलाइन मनाया जाएगा विश्व पुस्तक दिवस 2021 (World Book Day 2021) 

विश्व मे कोविड-19 (Covid-19) महामारी की वजह से इस साल भी ऑनलाइन मनाया जाएगा विश्व पुस्तक दिवस 2021 (World Book Day 2021) । पुस्तकों को पढ़ने के उत्सव को बनाए रखने के लिए, वर्ल्ड बुक कैपिटल को यूनेस्को और प्रकाशकों, बुकसेलर और पुस्तकालयों का प्रतिनिधित्व करने वाले अन्य संगठनों के लिए चुना जाता है । आमतौर पर हमें अपने या बच्चों के साथ पुस्तकें पढ़ने का समय नहीं मिलता है । वही वर्तमान स्थिति के अनुसार जहां पूरी दुनिया COVID-19 महामारी के साथ लड़ रही है, यह समय है पढ़ने के महत्व को महसूस करने का, पाठकों के रूप में बच्चों के विकास को बढ़ावा देने और साहित्य के प्रति आजीवन प्रेम उत्पन्न करने और उन्हें रोचक पुस्तकों की तरफ अग्रसर करने का जिससे वह कुछ सीख ले पाए । 

Also Read: World Earth Day 2021: विश्व पृथ्वी दिवस क्यों मनाया जाता है, जानिए इसका इतिहास और थीम के बारे में

World Book Day 2021: ‘विश्व पुस्तक दिवस 2021’ पर जानिए भारत में सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पुस्तक और हिंदी की रोचक पुस्तकें

‘विश्व पुस्तक दिवस 2021’ पर जानिए भारत में सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पुस्तक और हिंदी की रोचक पुस्तकें इस प्रकार है: 

“जीने की राह” पुस्तक (Way of Living Book)

भारत मे पिछले कुछ वर्षों से देश में सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली आध्यात्मिक, सामाजिक “जीने की राह” पुस्तक (Way of Living Book) लोगों की पसंद बनती जा रही है। इस पुस्तक में लोगों की समस्या से जुड़े सभी प्रश्नों के उत्तर प्रमाण सहित मिलते है और सभी धर्मों (हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई और अन्य) के धार्मिक शास्त्रों (वेद, पुराण, कुरान, गुरु ग्रन्थ साहिब, बाइबिल और अन्य शास्त्रों) का यथार्थ ज्ञान तथा पूर्ण एक परमात्मा को पाने की सम्पूर्ण जानकारी “जीने की राह” पुस्तक (Way of Living Book) में विस्तार के साथ बताया गया है । यह पुस्तक जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज (Jagatguru Saint Rampal Ji Maharaj) द्वारा लिखित सभी धर्मो के शास्त्रों पर आधारित है तथा यह पुस्तक 100% निशुल्क है और इसकी होम डिलीवरी भी निशुल्क रहेगी है । अगर आप इस पुस्तक को पढ़ने के इछुक है तो आप jagatgururampalji.org पर जाकर “जीने की राह” पुस्तक की सॉफ्ट कॉपी डाऊनलोड भी कर सकते है । ओर आप इस पुस्तक की हार्ड कॉपी के लिए भी अप्लाई कर सकते है जिसके लिए आपको इस नम्बर पर +91 7496801823 अपना नाम, पता, और फ़ोन नंबर बताना होगा और यह पुस्तक 15 दिन के अंदर आपके घर पर निःशुल्क डिलीवर कर दी जाएगी।

Credit: Gazab India

  • तमस (Tamas)

कलम के जागूदरों में शामिल लेखकर भीष्म साहनी की किताब तमस (Tamas)  के लिए उन्हें 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया गया । यह किताब अंग्रेजों से भारत की आजादी से पूर्व समाज में फैली सांप्रदायिकता की कहानी को बयां करती है ।

  • निर्मला (Nirmala)

निर्मला (Nirmala) की कहानी भारतीय नारी के जीवन पर आधारित है । निर्मला पुस्तक की कहानी एक ऐसी महिला की है जो चरित्र से निर्मल है, परन्तु समाज के सामने उसे कई कारणों से अपमानित होना पड़ता है । प्रसिद्ध लेखक मुंशी प्रेमचंद (Munsi Premchand) द्वारा लिखित यह पुस्तक किसी के भी दिल को छू सकती है । ये कहानी समाज में दहेज प्रथा पर हमला करने की कोशिश है ।

  • नया सवेरा (Naya Savera)

लेखक यशवंत कोठारी (Yashwant Kothari) का किशोर उपन्यास नया सवेरा (Naya Savera) की कहानी बहुत ही मार्मिक है । ये कहानी लोगों को सकारात्मक विचार दे सकती है ।

  • चंद्रकांता संतति (Chandrakanta) 

साहित्यकार बाबू देवकीनंदन खत्री द्वारा लिखित चंद्रकांता संतति (Chandrakanta) की कहानी जादूगरी, रहस्यलोक पर आधारित है. इस कहानी को लोगों ने खूब पसंद किया था । इस किताब को लेकर कहा जाता है कि इसकी कहानी को पढ़ने के लिए कई लोगों ने हिंदी सिखी ।

  • गुनाहों का देवता (Gunaho Ka Devta)

गुनाहों का देवता (Gunaho Ka Devta) की कहानी चन्दर, सुधा और पम्मी के इर्द-गिर्द घूमती है । इस कहानी में चंदर को सुधा से प्यार हो जाता है, लेकिन दोनों एक-दूसरे से इजहार नहीं कर पाते हैं । गुनाहों का देवता कहानी प्रेम कहानी है । इस कहानी को पढ़ने के बाद लोगों को 19वीं सदी का प्यार याद आ जाएगा, जो हो तो जाता है, लेकिन इजहार नहीं कर पाता है ।

World Book Day 2021 Quotes in Hindi

  • काग़ज़ में दब के मर गए कीड़े किताब के, दीवाना बेपढ़े, लिखे मशहूर हो गया- बशीर बद्र
  • किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं, अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश
  • खुली किताब थी फूलों भरी ज़मीं मेरी, किताब मेरी थी रंग-ए-किताब उस का था – वज़ीर आग़ा
  • मैंने हमेशा कल्पना की है कि स्वर्ग एक तरह का पुस्तकालय है
  • अपना तेज बनाये रखने के लिए जिस तरह तलवार को पत्थर की ज़रुरत होती है उसी प्रकार दिमाग को किताबों की.
Please follow and like us:

One thought on “World Book Day 2021: विश्व पुस्तक दिवस पर जानिए कौनसी पुस्तक आपके लिए सर्वश्रेष्ठ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *