World Marriage Day: क्यों मनाया जाता है विश्व विवाह दिवस, क्या होता है विवाह का अर्थ

Home Hindi World Marriage Day: क्यों मनाया जाता है विश्व विवाह दिवस, क्या होता है विवाह का अर्थ
World Marriage Day [Hindi] क्यों मनाया जाता है विश्व विवाह दिवस विवाह का अर्थ
Spread the love

विश्व विवाह दिवस (World Marriage Day) प्रत्येक वर्ष फ़रवरी माह के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। यह दिवस विवाह संस्कार के संक्षिप्त संस्करण के रूप में मनाया जाता है। विवाह दो महिला-पुरुष के कानूनी, सामाजिक और धार्मिक रूप से एक साथ रहने को मान्यता प्रदान करता है। विवाह मानव-समाज की अत्यंत महत्वपूर्ण प्रथा एवं समाजशास्त्रीय संस्था है। यह समाज का निर्माण करने वाली सबसे छोटी इकाई, परिवार का मूल है। देश और दुनिया में विवाह का प्रचलन सर्वत्र विभिन्न शक्लों में देखने को मिलता है, इसकी परम्परा अति प्राचीन है, हमारी जीवन शैली का अभिन्न अंग है। यही कारण है कि सम्पूर्ण विश्व में फ़रवरी के दूसरे रविवार को ‘विश्व विवाह दिवस’ के रूप में मनाया जाता है और पति-पत्नी के आपसी संबंधों को नयी ताजगी एवं सुदृढ़ता देने का प्रयास किया जाता है।

विवाह का अर्थ

‘विवाह’ शब्द का प्रयोग मुख्य रूप से दो अर्थों में होता है-

  • पहला अर्थ वह क्रिया, संस्कार, विधि या पद्धति है, जिससे पति-पत्नी के स्थायी-संबंध का निर्माण होता है। रघुनंदन के मतानुसार उस विधि को विवाह कहते हैं, जिससे कोई स्त्री किसी की पत्नी बनती है। वैस्टरमार्क ने इसे एक या अधिक पुरुषों का एक या अधिक स्त्रियों के साथ ऐसा संबंध बताया है, जो इस संबंध को करने वाले दोनों पक्षों को तथा उनकी संतान को कुछ अधिकार एवं कर्तव्य प्रदान करता है। मनुस्मृति के अनुसार विवाह एक निश्चित पद्धति से किया जाने वाला, अनेक विधियों से संपन्न होने वाला तथा कन्या को पत्नी बनाने वाला संस्कार है।
  • विवाह का दूसरा अर्थ समाज में प्रचलित एवं स्वीकृत विधियों द्वारा स्थापित किया जाने वाला दांपत्य संबंध और पारिवारिक जीवन भी होता है। इस संबंध से पति-पत्नी को अनेक प्रकार के अधिकार और कर्तव्य प्राप्त होते हैं। इससे जहाँ एक ओर समाज पति-पत्नी को कामसुख के उपभोग का अधिकार देता है, वहाँ दूसरी ओर पति को पत्नी तथा संतान के पालन एवं भरण-पोषण के लिए बाध्य करता है। भारत की संस्कृति में विवाह को ‘पाणिग्रहण’ की संज्ञा दी गई है

World Marriage Day: संस्कार और संस्कृति का संवाहक

पति-पत्नी के रिश्तों में रस भरा रहे, इसके लिये फ़रवरी माह के दूसरे रविवार को विश्व विवाह दिवस मनाया जाता है और उसमें प्यार, प्रणय एवं सौहार्द भरने का प्राणवान संकल्प लिया जाता है। पति-पत्नी की जिन्दगी जब सारी खुशियां स्वयं में समेटकर प्रस्तुति का बहाना मांगती है, तब विवाह दिवस (World Marriage Day) जैसा अवसर उपस्थित होता है। यह दिवस संस्कार और संस्कृति का संवाहक है। वैवाहिक रिश्तों का संबोध पर्व है। मानवीय मन का व्याख्या-सूत्र है।

Also Read: National Girl Child Day: 24 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता हैं राष्ट्रीय बालिका दिवस, जानिए इतिहास और उद्देश्य

बाहरी और भीतरी चेतना का संवाद है। यह दिवस दिशा और दर्शन लेने का अवसर है। संकल्प से भाग्य और पुरुषार्थ का रचने का अवसर है। विवाह परिवाररूपी संस्था का आधार है। प्राचीन एवं मध्य काल के धर्मशास्त्री तथा वर्तमान युग के समाजशास्त्री, समाज द्वारा अनुमोदित, परिवार की स्थापना करने वाली किसी भी पद्धति को विवाह मानते हैं।

इसलिए मनाया जाता है विश्व विवाह दिवस

World Marriage Day: ज्योतिषाचार्य आचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि शादी परिवार की स्थापना की पहली सीढ़ी है। इसकी मजबूती को बनाए रखने और इसका सम्मान करने के लिए इस रिश्ते को सामाजिक मान्यता भी दी गई है। समाज की सबसे प्रगाढ़ इस रिश्ते की डोर मजबूत बनाए रखने के लिए हर साल फरवरी महीने के दूसरे रविवार को विश्व शादी दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरुआत सबसे पहले अमेरिका में हुई थी। 2012 से विश्व स्तर पर इस दिन को मनाया जाता है। इस दिन शादी शुदा लोग अपने रिश्तों को और मजबूत करने के लिए आयोजन करते हैं।

World Marriage Day: सोच मिलने से चलती है जिंदगी

समाजसेवी पूजा मेहरोत्रा ने बताया कि आपका जीवन साथी कैसा है? उसका व्यवहार कैसा है? यह पता चलने के बाद आपके रिश्तों की बुनियाद को मजबूत होती है। आपसी सोच उससे मिलती है और जिंदगी की डोर आगे बढ़ती रहती है। मेरी शादी अमित मेहरोत्रा के साथ हुई तो मुझे लगा कि मुझे जीवन जीने का नया रास्ता मिल गया। एक निजी कंपनी में काम करने के बावजूद उन्होंने मेरे अंदर की सामाजिक चेतना को जगाया और हम दोनों की दिव्यांगों को अपना बनाने में लग गए।

Also Read: Women’s Marriage Age In India: Minimum Age Of Marriage Of Girls Will Increase To 21 Years

एक दूसरे के साथ एक ही मकसद है कि समाज में अपना मुकाम हो, कोई कभी अंगुली न उठाए। शादी की सबसे मजबूत डोर आपसी विश्वास होता है। इसी विश्वास के बल पर हम अपने शादी के रिश्ते को आगे बढ़ा रहे हैं। मैं अपने बेटी इशिका और बेटे राघव को सामाजिक बंधनों के बारे में बताती हूं। आने वाला समाज उनका है। 

World Marriage Day: सोच मिलने से चलती है जिंदगीवचनों का पालन करने से श्रेष्ठ बनेगा बंधन 

World Marriage Day: शिक्षक डॉ.पवन दीक्षित ने बताया कि भारतीय सांस्कृतिक परंपरा का सबसे अहम पहलू विवाह है। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ अग्नि के सात फेरे लेकर जीवन जीने के सात वचन को निभाने की कसम खाई जाती है। इसे निभाने की उत्सुकता और समन्वय वैवाहिक जीवन को खुशहाल बना देता है। मेरी शादी डॉ.भुवनेश्वरी के साथ हुई तो दोनों के बीच विचारों का जो समन्वय रहा वह काफी अच्छा रहा। मुझे लगता है कि प्रजा, यज्ञ और काम तीनों का समन्वय शादी की डोर को मजबूत करता है। एक दूसरे के समझने के चक्कर में नामसमझी वर्तमान समय में इस रिश्ते को कमजोर कर रहा है। सामाजिक मान्यता के इस रिश्ते को सामाजिक मर्यादा के साथ ही आगे बढ़ाया जाय तो इस विवाह जैसे पवित्र बंधन को निभाने में कोई दिक्कत नहीं होगी। 

Worldwide Spoken English By VS

प्रतीज्ञा धारण करना

जिस प्रकार जन्मदिन के अवसर पर कोई बुराई छोड़ने और अच्छाई अपनाने के सम्बन्ध में प्रतिज्ञाएँ की जाती हैं, उसी तरह विवाह दिवस के उपलक्ष में पतिव्रत और पत्नीव्रत को परिपुष्ट करने वाले छोटे-छोटे नियमों को पालन करने की कम से कम एक-एक प्रतिज्ञा इस अवसर पर लेनी चाहिए। परस्पर ‘आप या तुम’ शब्द का उपयोग करना ‘तू’ का अशिष्ट एवं लघुता प्रकट करने वाला सम्बोधन न करना जैसी प्रतिज्ञा तो आसानी से ली जा सकती है। पति द्वारा इस प्रकार की प्रतिज्ञाएँ ली जा सकती हैं, जैसे

  • कटुवचन या गाली आदि का प्रयोग न करना।
  • कोई दोष या भूल हो, तो उसे एकान्त में ही बताना-समझाना, बाहर के लोगों के सामने उसकी तनिक भी चर्चा न करना।
  • युवती-स्त्रियों के साथ अकेले में बात न करना।
  • पत्नी पर सन्तानोत्पादन का कम से कम भार लादना।
  • उसे पढ़ाने के लिए कुछ नियमित व्यवस्था बनाना।
  • खर्च का बजट पत्नी की सलाह से बनाना और पैसे पर उसका प्रभुत्व रखना।
  • गृह व्यवस्था में पत्नी का हाथ बँटाना।
  • उसके सद्गुणों की समय समय पर प्रशंसा करना।
  • बच्चों की देखभाल, साज-सँभाल, शिक्षा-दीक्षा पर समुचित ध्यान देकर पत्नी का काम सरल करना।
  • पर्दा का प्रतिबन्ध न लगाकर उसे अनुभवी-स्वावलम्बी होने की दिशा में बढ़ने देना।
  • पत्नी की आवश्यकताओं, सुविधाओं पर समुचित ध्यान देना आदि।

Marriage Day Quotes, Messages And Wishes

  • Happy is a man who finds his true friend and happier is a man who gets to marry his true friend.
  • To all the years you have spent as a married couple, Happy Marriage Day to you.
  • Happy Marriage Day to you and hope you spend the following years as a happy couple.
  • Bless you both with a very Happy married life on this World Marriage Day.
  • It is not always about tying the knot but also about keeping it secure through the many years of marriage.
  • Years pass, Times change but on this World Marriage Day I hope our love remains the same and we lead a happy married life.
  • In marriage keep an eye on the person you are fighting for, not the person you are fighting with.
  • Marriage is all about being the best team and the perfect versions of each other when together.
  • Marriage is not just a one day thing but something that you need to work hard kn everyday to make it last for years.
  • Make your marriage a safe haven and fight with the negativities from outside as a team to achieve your goals and remain as a happy couple.
  • On this World Marriage Day I hope all the married couples find love and happiness in each other and continue to stay together in the years to come.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: